संगीत का मानव जीवन पर पड़ता है गहरा प्रभाव: डीपीओ – Hindustan हिंदी

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान द्वारा आयोजित जिला स्तरीय कला उत्सव प्रतियोगिता शुक्रवार को स्थानीय रीजनल सेकेंड्री स्कूल के सभागार में प्राचार्य मनोज कुमार झा की अध्यक्षता में आयोजित की गई।
उद्घाटन करते हुए डीपीओ संजय कुमार ने कहा कि आज के वैज्ञानिक युग में संगीत के माध्यम से फसल के उत्पादन में बढ़ोतरी किया जा सकता है। संगीत का हमारे मानव जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि कला के माध्यम से समाज में समरसता एवं शिक्षा के स्तर में सुधार किया जा सकता है। बाल विज्ञान कांग्रेस के राज्य संरक्षक रामश्रृंगार पांडेय ने कहा कि संगीत के माध्यम से शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न से निजात पाया जा सकता है। यह कला प्रकृति प्रदत्त है। संगीत कला अनादि काल से चला आ रहा है।
कार्यक्रम प्रभारी संतोष कुमार मिश्र चुन्नू ने कहा कि संगीत के माध्यम से ही मानव कौन कहे भगवान को भी प्रसन्न किया जा सकता है। इसका उदाहरण महाकवि विद्यापति जिनके संगीत ससे स्वयं महादेव नौकर का रूप धारण किये। अध्यक्षीय भाषण में प्राचार्य मनोज कुमार झा ने कहा कि आज परम्परागत संगीत खत्म होता जा रहा है। तथा आधुनिक संगीत प्रभावी होता जा रहा है।
निर्णायक मंडल के अद्यानाथ झा, शैलेन्द्र कुमार पांडेय, सीताराम यादव ने बताया कि 16 सितम्बर को प्रमंडल स्तरीय नाट्य कला में प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय राजनगर, नृत्य में सूड़ी हाई स्कूल, गायन में भीएसबी प्लस टू उच्च विद्यालय पंडौल एवं दृष्टि कला में डीएनपी उच्च विद्यालय भराम का चयन किया गया है। समारोह को आरएमएस के उदय कुमार भारती, अमित कुमार, साक्षरता के रंजीत कुमार, प्रत्युष परिमल, राजीव कुमार आदि ने भी संबोधित किया।

Source Article from http://www.livehindustan.com/bihar/madhubani/story-music-falls-on-human-life-deep-effects-dpo-1471927.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.