शिवानंद सहित पांच सांसद जदयू से निष्कासित

शिवानंद सहित पांच सांसद जदयू से निष्कासित

पटना, [राज्य ब्यूरो] : जदयू नेतृत्व ने गुरुवार को कड़ा फैसला लेते हुए अपने पांच सांसदों को पार्टी से निष्कासित कर दिया। इनमें राज्यसभा सदस्य शिवानंद तिवारी भी शामिल हैं। जिन चार लोकसभा सदस्यों को निष्कासित किया गया है, उनके नाम कैप्टन जयनारायण निषाद, पूर्णमासी राम, मंगनी लाल मंडल एवं सुशील सिंह हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव की सहमति के बाद इन पांचों सांसदों को निष्कासित किया गया है। इन पर पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप हैं। शिवानंद तिवारी दोबारा राज्यसभा नहीं भेजे जाने के बाद से काफी नाराज चल रहे थे। हाल के दिनों में वे कई बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ भी बोल चुके हैं। उनकी राज्यसभा की सदस्यता अप्रैल के प्रथम सप्ताह में समाप्त हो रही है। कैप्टन जयनारायण निषाद तो इनसे काफी पहले से ही नाराज चल रहे थे। जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने बताया कि इन पांचों सदस्यों को पार्टी से ‘एक्सपेल्ड’ कर दिया गया है।

पूर्णमासी राम (गोपालगंज), मंगनी लाल मंडल (झंझारपुर), सुशील सिंह (औरंगाबाद) और कैप्टन जयनारायण निषाद (मुजफ्फरपुर) लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीते थे। पार्टी विरोधी गतिविधि के लिए पूर्णमासी राम पहले से ही पार्टी से निलंबित चल रहे थे। जदयू नेतृत्व इन सांसदों की गतिविधियों से अर्से से नाराज था। इनकी लोकसभा की सदस्यता की अवधि समाप्त होने से पहले ही इन्हें पार्टी से निष्कासित करने का फैसला बुधवार को ले लिया गया।

ये थे आरोप

-सुशील कुमार सिंह:-2010 के विधानसभा चुनाव में अपने भाई को राजद से टिकट दिलवाकर औरंगाबाद से लड़वाया।

-पूर्णमासी राम:-जीतने के बाद से ही पार्टी नेतृत्व के खिलाफ चल रहे थे। जदयू से टिकट न मिलने की आशंका से राजद का गुणगान करने लगे थे।

-मंगनी लाल मंडल:-2010 के विधानसभा चुनाव में राजद उम्मीदवार का विरोध किया। पार्टी विरोधी प्रचार की टेप मुख्यमंत्री के पास है।

-कैप्टन निषाद:-2010 के विस चुनाव में परिजन के लिए टिकट मांग रहे थे। नहीं मिला तो विरोध में उतर गए। जदयू से अलग हुए बगैर भाजपा के लिए प्रचार कर रहे हैं।

कमेंट करें

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsstate Desk)

Source Article from http://www.jagran.com/bihar/patna-city-11125768.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.