बाढ़ आए बीत गए 80 दिन, फिर भी मुआवजे की आस में बैठे हैं जोगबनी के पीड़ित – आज तक

बिहार में बीते दिनों आई बाढ़ से यहां का अररिया जिला सबसे ज्यादा प्रभावित रहा. जिले के जोगबनी क्षेत्र में अप्रत्याशित बाढ़ ने सबसे ज्यादा लोगों की जान ले ली. नेपाल से आये बेसुमार सैलाब सबकुछ बहाकर ले गया, लेकिन आपको आश्चर्य होगा कि बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित इस क्षेत्र में अभी तक अनुदान और मुआवजे की राशि नहीं दी गई है.

सरकारी लापरवाही का आलम यह है कि बाढ़ को आए 80 दिन गुजर जाने के बाद भी यहां के लिए अपने लिए सरकारी मदद की गुहार लगाने को मजबूर हैं. पूरे बिहार के प्रभावित जिलों में यह राशि बंट गई है लेकिन फारबिस प्रखंड में अभी तक पीड़ितों को मुआवजे का इंतजार है.

प्रशासनिक उदासिनता और लापरवाही के खिलाफ नेपाल से सटे बिहार के इस जोगबनी क्षेत्र के लोगों ने एक दिवसीय धरना दिया. सोमवार को सैकडों लोगों ने अंतरराष्ट्रीय नाका पर बैठ अपना गुस्सा जाहिर किया. प्रदर्शनकारी पप्पू पटेल का कहना है कि सबसे भीषण बाढ़ इसी इलाके में आई थी और सबसे ज्यादा लोगों की जान भी इसी क्षेत्र में गई लेकिन आज भी लोग मुआवजे का इंतजार कर रहे हैं. लोगों को मुआवजा तो दूर की बात अनुदान राशि तक नहीं दी गई.

पटेल ने सर्वे में भी भारी अनियमितता बरते जाने की बात कही. साथ ही चेतावनी भी दी कि अगर 48 घण्टे के भीतर बाढ़ पीड़ितों के खाते में राशि नहीं आती है तो उग्र आंदोलन होगा और जिलाधिकारी का भी घेराव किया जायेगा. एक अन्य बाढ़ पीड़ित नरेश प्रसाद ने बताया कि अररिया जिले के अधिकांश इलाकों में अनुदान और सहायता राशि मिल चुकी है तो फ़िर इस क्षेत्र के लोगों के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है. धरने में उपस्थित दर्जनों बाढ़ पीड़ितों ने नगर पंचायत की उदासीनता के प्रति अपना विरोध जाहिर किया.

उधर फारबिसगंज के अंचल अधिकारी अभयकांत मिश्रा ने कहा कि कागजी कार्रवाई में देरी हुई है और एक सप्ताह के भीतर जोगबनी के सभी बाढ़ पीड़ितों के बीच अनुदान राशि का वितरण कर दिया जाएगा.

Source Article from http://aajtak.intoday.in/story/araria-jogbani-flood-victim-compensation-delay-protest-dharna-bihar-1-961399.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.