पश्चिमी कोसी तटबंध की मरम्मत नहीं होने से आवागमन में परेशानी – Hindustan हिंदी

कोसी पश्चिमी तटबंध की ऊंची, चौड़ी एवं पक्कीकरण कार्य वर्षों से अधूरा पड़ा है। तटबंध मरम्मत के अधूरा रहने से तटबंध पर कभी उड़ती धूल तो कभी कीचड़ सें लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। तटबंध के अंदर बसे लाखों की आबादी के आवागमन का मुख्य साधन तटबंध होने से विभाग ने तटबंध की मजबूती के साथ पक्कीकरण की योजना बनायी।

इस कार्य का जिम्मा दिल्ली के जेके एम कम्पनी को सौंपा गया लेकिन संवदेक ने कार्य में लापरवाही बरतते कार्य को आधा अधूरा छोड़ दिया। कार्य में कोताही बरतते देख विभाग ने दो-दो बार ठेकेदार को जूर्माना भी लगाया। इसके बावूजद भी तटबंध मरम्मत कार्य में प्रगति नही होता देख विभाग ने जेके एम कम्पनी को कार्य से मुक्त कर दिया है। इससे लगभग दो वर्षों से तटबंध कालीकरण व मजबूती कार्य बंद पड़ा हुआ है।

54 किलोमीटर तक होनी है पक्कीकरण : वर्ष 11-12 में पश्चिमी कोसी तटबंध मरम्मत कार्य शुरू किया गया था। लगभग 578 करोड़ की लागत से कुनौली से निर्मली होते घोंघेपुर 54 किलोमीटर तक पश्चिमी कोसी तटबंध का पक्कीकरण कार्य किया जाना है लेकिन समय सीमा की समाप्ति के बाद भी कार्य पूरा नहीं होने पर संवदेक पर विभाग ने कार्रवाई कर कार्य से मुक्त कर दिया है। वर्षों पूर्व योजना बनने एवं करोड़ खर्च के बाबजूद तटबंध के कई बिन्दुओं पर जगह-जगह मिट्टी का काम बाकी है। उधर, कई बिन्दुओं पर बड़े-बड़े पत्थर बिछाकर कर उपेक्षित छोड़ दिये जाने से लोगों को तटबंध पर पैदल भी चलना का दुश्वर हो रहा है। गंडौल चौक से जलई थाना व घोंघेपुर तक तटबंध धूल रहने और बारिश होने के बाद धूल के कीचड़ बनने से आवागमन अवरूद्द हो जाता है।

तटबंध कई जगह खतरनाक : पश्चिमी कोसी तटबंध के ऊंचीकरण अबतक नहीं होने से तटबंध के कई बिन्दु खतरनाक बने हुए हैं। वैसे इन बिन्दुओं पर मिट्टी की जगह बोल्डर क्रेटिंग करवाया जा रहा है। नए सिरे से बनी योजना : संवेदक के हटने के बाद विभाग ने पश्चिमी कोसी तटबंध को नए सिरे से कार्य योजना बनाई है। विभागीय इंजीनियर के अनुसार लगभग 85 करोड़ की और लागत से कार्य योजना बनाई गई है। इसकी प्रशासनिक स्वीकृति भी हो चुकी है। टेंडर प्रक्रिया नहीं होने से कार्य शुरू नहीं करवाया जा रहा है। तटबंध के किनारे बसे गांवों के ग्रामीण बाढ़ से पूर्व ही तटबंध की ऊंची करण एवं पक्कीकरण करवाने की मांग की है।

Source Article from http://www.livehindustan.com/bihar/saharsa/story-trouble-in-the-traffic-with-no-repair-of-western-kosi-embankment-1619565.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.