नये साल में उजड़ जाएंगे सैकड़ों घर

————————

गया, निज प्रतिनिधि: अरमानों का आशियाना उजड़ने में अब चंद महीने की देरी है। नये साल 2014 का लोग उत्सव मनाएंगे या फिर उजड़ने का गम। यह तो विस्थापित हो रहे परिवार के धैर्य पर निर्भर करेगा।

बात ऐसी है कि ईस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर रेल परियोजना हेतु जिले के गेरे, लखनपुर, मानपुर, नवादा, छोटकी नवादा, आदर्श कालोनी पांचबिगहिया, गोविंदपुर, खरखुरा, कुजापी, काष्ठा आदि सहित कई गांवों में बसी बसायी आबादी व खेती योग्य भूमि के बीच से रेलवे लाइन बिछाने हेतु भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया और तेज हो जाएगी। सूत्रों की माने तो मकर संक्रांति यानि 14 जनवरी 2014 के बाद जमीन अधिग्रहण संबंधी 20(ई) की सूचना सार्वजनिक कर दी जाएगी। इसके बाद भू-स्वामियों से उनका दावा व आपत्ति संबंधी वादों का निबटारा अंचल कार्यालय स्तर से लेकर जिला भू-अर्जन कार्यालय से किया जाएगा। सूत्रों की माने तो उक्त परियोजना के तहत सन् 2016 में रेलवे लाइन का बिछा लेने का लक्ष्य रखा गया है। ऐसे में यह संभावित जान पड़ता है कि भू-धारियों व मकान मालिकों से उनकी जमीन व मकान अधिग्रहण की प्रक्रिया को अपनाते हुए जिला प्रशासन के माध्यम से डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर परियोजना के अधिकारी उन्हें मुआवजा की राशि उपलब्ध करा देगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsstate Desk)

Source Article from http://www.jagran.com/bihar/gaya-10973732.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.