तेजस्‍वी का तंज: अब बूढ़े हुए PM मोदी व CM नीतीश, उन्‍हें आराम की जरूरत

तेजस्‍वी का तंज: अब बूढ़े हुए PM मोदी व CM नीतीश, उन्‍हें आराम की जरूरततेजस्‍वी का तंज: अब बूढ़े हुए PM मोदी व CM नीतीश, उन्‍हें आराम की जरूरत

मुजफ्फरपुर [जागरण टीम]। राजद की जनादेश अपमान यात्रा के दूसरे दिन गुरुवार को पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने अपने बड़े भाई तेजप्रताप यादव के साथ शिवहर और  सीतामढ़ी में जनसभाएं की। इस दौरान हाल के राजनीतिक घटनाक्रमों को दोहराया।

साथ ही मुख्यमंत्री, भाजपा व आरएसएस और सुशील मोदी पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार व पीएम नरेंद्र मोदी बूढ़े हो गए हैं, उन्‍हें अब आराम की जरूरत है। तेजस्‍वी ने कहा कि सीएम नीतीश का जदयू नकली है, असली जदयू शरद यादव का है।

नीतीश ने सभी को ठगा

सीतामढ़ी के गोयनका कॉलेज मैदान में तेजस्वी यादव ने कहा कि आप लोगों ने महागठबंधन सरकार बनाई। लेकिन, नीतीश ने सबको ठगा। खुद आरएसएस की गोद में जाकर बैठ गए। वे कहते थे कि मिट्टी में मिल जाऊंगा, लेकिन भाजपा से नहीं मिलूंगा। ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको नीतीश ने ठगा नहीं।

सत्‍ता का लालच होता तो नीतीश नहीं बनते सीएम

तेजस्‍वी ने कहा, पापा (लालू प्रसाद यादव) हमेशा बोलते थे कि नीतीश के पेट में दांत है। महागठबंधन बना तो एक मौका मांगा। शर्त थी किसी भी तरह भाजपा को बिहार में नहीं घुसने देना है। हम लोगों ने दलितों, अल्पसंख्यकों, गरीब-गुरबों के हित में महागठबंधन बनाया। अगर हम सत्ता के लालची होते तो नीतीश मुख्यमंत्री नहीं बनते।

वसूलों से नहीं किया समझौता

तेजस्‍वी ने कहा, हमने वसूलों से समझौता नहीं किया। भाजपा से नहीं मिले। आरएसएस का हमेशा विरोध किया। लेकिन, नीतीश और भाजपा वाले सत्ता के लिए कुछ भी कर सकते हैं। बिहार में नकारात्मकता फैलाई गई है। अगर भाजपा के साथ ही जाना था तो 2013 में नीतीश ने भाजपा से नाता क्यों तोड़ा?
नीतीश किस मुंह से करते नैतिकता की बात

तेजस्‍वी ने कहा कि वे 27 अगस्त की रैली में सभी बातों को रखेंगे। तेजस्वी तो महज एक बहाना था, नीतीश को बीजेपी की गोद में जाना था। हम जनता के बीच जाकर सारी बातों को रख रहे हैं। नीतीश कुमार जी पर खुद अपहरण और हत्या का मुकदमा चल रहा है। एक मामले में कोर्ट ने उन पर जुर्माना भी लगा दिया है। फिर क्यों मुख्यमंत्री बने हैं? उनके कई मंत्रियों पर मुकदमा है। वे किस नैतिकता की बात कर रहे हैं?

कोई माई का लाल नहीं, जो हमें मिटा दे

तेजस्‍वी ने कहा कि नीतीश कुमार को नैतिकता से कोई लेना-देना नहीं है। नीतीश जी पहली बार लालू जी की मदद से ही चुनाव जीते। कोई माई का लाल नहीं, जो हमें मिटा दें।
लालू बना रहे मोदी विरोधी माहौल

तेजस्वी ने भीड़ से पूछा कि क्या आपको लगता है कि हम भ्रष्टाचारी हैं। हम बेईमान है। लोगों ने कहा- नहीं, नहीं। देश में मोदी के खिलाफ लालू जी माहौल बनाने में लगे हैं। इसलिए घबराहट है।
नहीं समझ सके नीतीश को धोखा

तेजस्‍वी ने कहा, चंपारण शताब्दी वर्ष में हमने नीतीश जी के साथ सात किमी तक पदयात्रा की। शांति-भाईचारा, एकता, अखंडता का संकल्प लिया। उसका क्या हुआ? नीतीश के धोखे काे हम नहीं समझ सके, इसलिए हम लोगों ने बापू से माफी मांगी। इंसानियत सबसे बड़ा धर्म है। इंसान नहीं रहेगा तो मंदिर में घंटी बजाने वाला नहीं मिलेगा।   
अब युवा संभालेंगे मोर्चा

इससे पूर्व शिवहर के गांधी भवन में तेजस्वी ने कहा कि नीतीश व मोदी बूढ़े हो गए हैं। उन्हें आराम की जरूरत है। हम अभी जवान हुए हैं। अब युवा ही मोर्चा संभालेंगे। नीतीश व भाजपा हमें कमजोर न समझें। हमारे परिवार को भ्रष्टाचारी घोषित करने की साजिश रची गई। तब जब मेरी उम्र 12-13 साल थी, मैं क्रिकेट खेल रहा था, मुझे घोटाले में फंसाने की साजिश रच दी।
सुशील मोदी पर निशाना साधा
सुशील मोदी पर निशाना साधते हुए तेजस्‍वी ने कहा, छोटकू मोदी पांच-पांच आपराधिक मामलों में वांछित हैं। लेकिन, उनकी गिरफ्तारी नहीं हो रही। नीतीश कुमार ने अपने हलफनामे में खुद पर आपराधिक मामला होने की बात स्वीकारी।

नीतीश का जदयू नकली

कहा, नीतीश का जदयू नकली है। असली जदयू शरदजी की है। भाजपा से पूछा कि नीतीश कुमार ने बिहारियों के डीएनए सैंपल जो भिजवाए थे, उसकी रिपोर्ट का क्या हुआ? यदि रिपोर्ट आ गई है तो उसे पटना के म्यूजियम में रखवा दें।
कुर्सी की खातिर बदलती रहती अंतरात्‍मा

तेजस्वी ने कहा कि नीतीश की अंतरात्मा हमेशा कुर्सी की खातिर बदलती रहती है। साजिश ऐसी रची की रातोरात गर्वनर से मिलकर शपथ ग्रहण कर लिया। भाजपा सरकार बनने के बाद दलितों, महादलित, गरीब की उपेक्षा जारी है। नीतीश कुमार ने जनादेश का अपमान किया है। राजद की रैली के साथ ही बिहार में सरकार बदल जाएगी।

आरएसएस की गोद में बैठ गए नीतीश : तेजप्रताप

इस अवसर पर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने कहा कि आपको पता है कि किस तरह से नौजवानों व छात्रों से धोखा हुआ? किस तरह से नीतीश जी आरएसएस की गोद में जाकर बैठ गए? दो महीने से यह सब देख रहा था। मेरे छोटे भाई को बदनाम किया गया।

तेजप्रताप ने 27 अगस्‍त की राजद की रैली में लाखों की संख्‍या में पहुंचने का आह्वान किया। कहा, इस बार आरएसएस को पटकनिया देनी है। हाफ माइंड आरएसएस वाले हाफ पैंट पहनते हैं।

तेजप्रताप ने कहा कि उनके घर पर सीबीआइ की रेड कराई गई। वे कमरेे में घुसे तो देखा कि यह तो धार्मिक आदमी है। मेरे कमरे में गीता के साथ बाइबिल, कुरान सब देखकर उनको आश्चर्य हुआ।

By
Amit Alok 

Source Article from http://www.jagran.com/bihar/muzaffarpur-16523943.html

Leave a Reply

Your email address will not be published.